सस्ता बाइक बेचने के नाम पर लोगों से फर्जीवाड़ा


मौके पर पहुँची पीआरवी


Report- Dhananjay Pandey

चौरीचौरा के तरकुलहा में इकट्ठी हुई थी एक हजार लोगों की भीड़

दुकानदारों की सूचना पर पकड़ा गया एक आरोपी

चौरीचौरा गोरखपुर। बाँसगाँव सन्देश। कई जिलों के लोगों को सस्ता बाइक देने के नाम पर पहले तो घूम घूमकर रजिस्ट्रेशन किया फिर बाइक देने के लिए रजिस्ट्रेशन कराने वालों को उनके घर से बहुत दूर चौरीचौरा के तरकुलहा मेले में बुलाकर कुछ ठगों ने ठगने का काम शुरू किया। बिना मेला अत्यधिक भीड़ देख मेला दुकानदारों ने पुलिस को सूचना दिया। जब तक पुलिस पहुंचे झांसा देने वाले वहां से फरार हो गए। एक ठग पकड़ा गया। लेकिन मुकामी पुलिस मामले को मैनेज करने में जुटी रही।
            ठगों का एक गैंग बहराइच, महराजगंज, कुशीनगर, सिद्धार्थनगर सहित कई अन्य जिलों के गांवों में पहुंचकर लोगों को महज 36 हजार रुपये में बाइक देने का झांसा दिया। इसके लिए ठगों ने एक हजार और पंद्रह सौ रुपये लेकर रजिस्ट्रेशन किया और बाइक देने के लिए चौरीचौरा के तरकुलहा मेले में बुलाया। बाइक पाने की चाह में गुरुवार की सुबह 8 बजे से ही दूर दराज से लगभग एक हजार लोग मेला परिसर पहुंच गए। इस दौरान बाइक देने का झांसा देने वाले गैंग के लोग भी पहुंच गए और यहां पर रजिस्ट्रेशन करने के साथ बाइक का तय 36 हजार रुपये जमा कराना शुरू कर दिया। मेले में भीड़ देखकर दुकानदारों को शक हुआ तो वह जानकारी किये और इसकी सूचना प्रभारी निरीक्षक को उनके सीयूजी पर दिया। जब देर होने लगा तो वह हंगामा शुरू कर दिए। जिसकी जानकारी मिलने पर पहुंचे पत्रकारों ने इसकी सूचना डायल 112 को दिया। मौके पर पहुंची पीआरवी 332 की टीम ने भीड़ से एक आरोपी और पैसा जमा करने वाले दो लोगों को पकड़ा और थाने लेकर आई। बताया जाता है कि हंगामा शुरु होते ही गैंग का सरगना जमा रुपयों को लेकर अपनी गाड़ी से फरार हो गया। पकड़े गए आरोपी ने कुबूल किया कि उसने बाइक देने के नाम पर पैसा जमा किया है। हालांकि पुलिस के पहुंचने के बाद बाइक लेने पहुंचे लोग वहां से खिसक लिए।

इस संम्बंध मे चौरीचौरा थाना प्रभारी इंस्पेक्टर सुबोध कुमार का कहना है कि कुछ लोग यहां महराजगंज से आये थे। आपस मे रिश्तेदार थे। किसी से गाड़ी उन्हें लेनी थी। कोई मामला नहीं था। विवाद हुआ था। बाद में आपस मे समझौता कर लिए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ